नशीले पदार्थों का बढ़ता प्रचलन समाज और राष्ट्र के लिए गंभीर खतराः राजा सिंह झींजर
नशा एक सामाजिक बुराईः झींजर
पीडल सरकारी स्कूल में नशा मुक्ति जागरूकता कार्यक्रम और रैली का आयोजन
गुहला चीका
नशा एक सामाजिक बुराई है जो परिवार और समाज की अस्थिरता का कारण है। नशे का आदी व्यक्ति पारिवारिक सुख-शांति और समृद्धि के साथ साथ खुद के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को पूर्णतया नष्ट कर बैठता है। आज समाज के हर व्यक्ति खासकर युवा वर्ग को नशे के दुष्परिणामों के प्रति जागरूक करने की जरूरत है। यह विचार जिला जूनियर रेड क्रॉस काउंसलर प्राध्यापक राजा सिंह झींजर ने स्थानीय राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय पीडल में आयोजित नशा मुक्ति जागरूकता कार्यशाला में विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहे। उन्होंने कहा कि नशे का बढ़ता प्रचलन आज समाज और राष्ट्र के लिए गंभीर खतरा है जिससे सामाजिक एकजुटता और राष्ट्रीय विकास प्रभावित हुआ है। झींजर ने कहा कि आज युवा वर्ग की खेलों के प्रति रुचि कम हुई है और नशीली वस्तुओं के आसानी से उपलब्धता ने सामाजिक मान्यताओं को दरकिनार किया है। राजा सिंह झींजर ने कहा कि नशे का आदी व्यक्ति अपने घर परिवार के लिए ही नहीं बल्कि पास पड़ोस के लिए भी एक अभिशाप है। कार्यक्रम में शराब, तंबाकू, गुटखा, बीड़ी, सिगरेट आदि से होने वाले शारीरिक, आर्थिक, सामाजिक, पारिवारिक दुष्परिणामों बारे विद्यार्थियों को जागरूक किया गया। जिला जूनियर रेड क्रॉस काउंसलर प्राध्यापक राजा सिंह झींजर ने विद्यार्थियों एवं स्टाफ सदस्यों को नशीले पदार्थों के प्रयोग से दूर रहने की शपथ दिलाई। कार्यक्रम में पंजाबी सभ्याचार के प्रवक्ता सतिंदर पाल सिंह ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि हमारा भारतीय सभ्याचार सदा से समाज का रक्षक रहा है परंतु नशे के प्रचलन से आज आपसी भाईचारे और नैतिकता की कमी महसूस हुई है। विद्यालय के प्रधानाचार्य जतिंदर कुमार वर्मा ने कहा कि आज का विद्यार्थी ही नशा मुक्ति कार्यक्रमों में अपनी अहम भूमिका अदा कर सकते हैंं। उन्होंने कहा कि नशे का आदि व्यक्ति धीमी मौत ही नहीं मरता बल्कि पाप एवं बुराइयों की गठरी बांध सदा के लिए संसार से चला जाता है। प्रधानाचार्य ने नशा मुक्ति जागरूकता रैली को रेड क्रॉस झंडी दिखाकर रवाना किया जिसमें विद्यार्थियों एवं अध्यापकों ने जन-जन को स्लोगनो के माध्यम से नशे के दुष्परिणामों की जानकारी दी। ग्राम पंचायत के सरपंच प्रतिनिधि नरेश कुमार ने कार्यक्रम की तारीफ करते हुए कहा कि जागरूकता के बल पर ही समाज को एक नई दिशा दी जा सकती है और लोग बुराइयों से दूर रहते है। उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायत भी गांव में नशे के प्रचलन को रोकने के लिए प्रयासरत है। इस अवसर पर वरिष्ठ प्राध्यापक कृष्ण लाल मौलिक मुख्य अध्यापक अजमेर सिंह मनदीप पाल कौर पिंकी देवी, रणजीत सिंह, अनिल कुमार, सुखजिन्द्र कौर, कुलवीर सिंह, मोहन लाल, गुरमीत सिंह, सतीश कुमार, पवन कुमार सहित सभी स्टाफ सदस्य उपस्थित थे।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here