उप-कृषि निदेशक कैथल डॉ कर्मचंद के मार्गदर्शन में खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी के सभागार में भूमि मैपिंग के लिए एक दिवसीय प्रशिक्षण का आयोजन किया गया, जिसकी अध्यक्षता उपमंडल कृषि अधिकारी, डॉ विनोद ने की। राजस्व विभाग के कानूनगो राजा राम, सुभाष चंद तथा कुलदीप राणा ने कृषि विभाग व अन्य विभागों के कर्मचारियों को भूमि मैपिंग के लिए एक दिवसीय प्रशिक्षण दिया गया। उन्होंने बताया कि जिस भी अधिकारी या कर्मचारी की गांव अनुसार ड्यूटी अलाट की गयी है,वह उस गांव की खेती की भूमि प्रत्येक एकड़ को मैप करेगा तथा ऑन लाईन रिकार्ड में दर्ज होगा। प्रशिक्षण में बताया गया कि मैप या सिजरे को किस तरह से देखना है, गिरदावरी क्या होती है, किला नम्बर, मुरब्बा नम्बर, जमाबंदी व अन्य राजस्व रिकार्ड के बारे में विस्तापूर्वक जानकारी दी गई।  उन्होंने प्रशिक्षण के दौरान यह भी जानकारी दी कि मैप या सिजरा से मौके पर गिरदावरी करना जैसे किस किला नम्बर में जीरी, चारा, गन्ना इत्यादि है। इस प्रशिक्षण में कृषि, मार्केटिंग, सिंचाई, पंचायत विभाग के कर्मचारियों ने भाग लिया। मैपिंग के दौरान आने वाली समस्याओं का भी जिक्र किया गया। प्रशिक्षण में कृषि विभाग से डा. राजबीर, डॉ संदीप कुमार,डा.ईश्वर कुमार,सचिन पंवार,अनूप माथुर सहित पटवारी, नेहरी पटवारी, सचिव आदि मौजूद रहे।  

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here