भारतीय रेड क्रॉस सोसाइटी लोगों के स्वास्थ्य, सुख और शांति के लिए प्रयासरत है: भगवानदास जैन

0
59

चाहे समय और परिस्थिति ने मनुष्य को हमेशा ही असमर्थ लोगों की पंक्ति में खड़ा होने को मजबूर किया है फिर भी मनुष्य का हाथ हमेशा परोपकार के लिए उठता रहा है। जहां धर्मगुरु और शास्त्रों ने भी हमेशा मानवता का संदेश दिया है वहीं भारतीय रेड क्रॉस सोसाइटी जन जन के स्वास्थ्य, सुख और शांति के लिए प्रयासरत रही है। यह विचार समाजसेवी भगवानदास जैन ने जूनियर रेड क्रॉस काउंसलर अध्यापकों को जनसेवा के लिए प्रेरित करते हुए कही। जैन ने कहा कि कोरोनावायरस महामारी को लेकर जहां एक तरफ काफी लोग मानसिक तौर से भयभीत रहे हैं वहीं दूसरी ओर शिक्षा विभाग के अध्यापकों ने दुख की घड़ी में जन सेवा की मिसाल कायम की है। समाजसेवी कश्मीरी लाल गर्ग, राम दत्त शर्मा और सुरेंद्र सिंगला ने जन सेवा को जिंदगी की सबसे पवित्र कमाई बताया। सिंगला ने कहा कि जीवन में इकट्ठी की गई संपदा साथ छोड़ सकती है लेकिन नेकी एवं भलाई के कार्यों से मिली पहचान हमेशा साथ रहती है। सुरेंद्र सिंगला ने आम लोगों को व्यस्त जीवन के कुछ क्षण जरूरतमंदों की सेवा में लगाने पर बल दिया। जिला जूनियर रेड क्रॉस काउंसलर प्राध्यापक राजा सिंह झींंजर ने कहा कि ऐसा माना जाता है कि मनुष्य भगवान का स्वरूप है और उसकी निस्वार्थ सेवा से ही हमेशा भगवान प्रसन्न होते हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय रेड क्रॉस सोसाइटी यही मानवता से शांति का संदेश देती है। बाद में जिला जूनियर रेड क्रॉस काउंसलर प्राध्यापक राजा सिंह झींंजर, स्वास्थ्य विभाग से डॉक्टर सुशील शर्मा बेबी, संतोष कुमारी, काउंसलर प्राध्यापक डॉ अनिल शर्मा, अध्यापक बूटा सिंह ने खरकां रोड ईट भट्ठा मजदूरों, औद्योगिक क्षेत्र में झोपड़पट्टी आदि स्थानों पर दर्जनों परिवारों को खाद्य सामग्री के पैकेट वितरित किए। उन्होंने लोगों को फेस मास्क, समाजिक दूरी और स्वच्छता की विस्तृत जानकारी दी। इस अवसर पर मोहनलाल, विनोद कुमार, रूबी रानी, कमला, सुनहरी, मनु राम, दीपू, मोनी चरण, हरिया इत्यादि बस्ती वासी लोग उपस्थित थे।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here