गुहला चीका-सीएम सुधार सेल के डायरेक्टर रोकी मित्तल ने किया रेस्ट हाउस का औचक निरीक्षण।

निरीक्षण के दौरान पाई गई भारी खामियां।
सीएम शूट में कई महीनों से ठहरे एसडीएम गुहला।
बन्द कमरे में चलते मिले एसी व  पंखे।
लोक निर्माण विभाग के अधिकारी रॉकी मित्तल को नहीं दे पाए उचित जवाब।
सीएम सुधार सेल के प्रोजेक्ट डायरेक्टर रॉकी मित्तल ने गुहला के लोक निर्माण विभाग के रेस्ट हाउस का औेचक निरीक्षण किया जिसमें भारी खामियां पाई गई। निरीक्षण के दौरान रॉकी मित्तल को रेस्ट हाउस के सीएम शुट में एसडीएम गुहला महिंद्र पाल ठहरे हुए मिले जिनके कमरे में बिना किसी प्रयोग के बिजली उपकरण जैसे एसी पंखे लाइटे चलते हुए मिले। जिस पर रॉकी मित्तल ने लोक निर्माण विभाग के एसडीओ जगदीश चंद्र को मौके पर बुलाया और पूछताछ की तो
 जगदीश चंद्र ने कहा कि चुनाव के दौरान एसडीम मोहिंदर पाल गुहला में बतौर एसडीएम आए थे और तभी यहां ठहरे हुए हैं । सीएम शूट में रुकने के बारे जब एसडीओ जगदीश चंद्र से पूछा गया तो वह कोई संतोषजनक उत्तर नहीं दे सके और मनगढ़ंत कहानियां बताने लगे। एसडीओ साहब कहानी बनाते हुए यहां तक कह दिया कि कमरों में ताजा पेंट हुआ है जिसकी दुर्गंध  को दूर करने के लिए एसी और पंखे चलाए जाते हैं।
इसी दौरान जब रॉकी मित्तल ने लोक निर्माण विभाग का रजिस्टर चेक किया तो उसमें एसडीएम महिंद्र पाल के 11 दिन 3/5/19 से13/5/19 रुकने  की तिथि दर्ज थी। इसी दौरान रॉकी मित्तल ने रेस्ट हाउस के मीटर की जांच की तो उसमें भी खामियां पाई गई करोड़ों रुपए की लागत से बनाई गई बिल्डिंग को राम भरोसे की बिजली पर चलाया जा रहा था। 
वहीं जब इस बारे रॉकी मित्तल से बात की गई तो उन्होंने कहा कि आज रेस्ट हाउस में भारी खामियां पाई गई हैं सीएम शुट जो कि केवल सीएम साहब के लिए बनाया जाता है उसमें सीएम साहब ही रुक सकते हैं उसका प्रयोग कोई दूसरा व्यक्ति नहीं कर सकता आज सीएम शूट में एसडीएम मोहिंदर पाल ठहरे हुए मिले हैं जिसके लिए उन्होंने हरियाणा के मुख्य सचिव और सीएम कार्यालय को पत्र लिखकर दिशा निर्देश दिए हैं कि किसी भी व्यक्ति को सीएम सूट का कमरा अलाट ना किया जाए।
जब इस बारे एसडीएम गुहला मोहिंदर पाल से बात की गई तो साहब ने बड़ी बेबाकी  से कहा कि वह जिस केमरे में ठहरे हैं वह सीएम सूट नहीं है साहब ने सीएम सूट को नीचे के फ्लोर पर बता दिया और लोक निर्माण विभाग के एसडीओ की जानकारी पर ही सवाल उठा दिए। जिसमें एसडीओ जगदीश चंद्र ने जानकारी दी थी कि एसडीएम साहब सीएम शुट में ही रुके हुए हैं। उन्होंने  कहा कि वह जिस कमरे में रुके हुए वह सीएम सूट का कमरा नहीं है और जो पंखे और ऐसी चले हुए थे एसडीम साहब ने कहा के सफाई कर्मचारी द्वारा चलाए गए होंगे। 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here